Sunday, 5 August 2018

"एक ऐसी दोस्ती - मौत और जिंदगी!" (One such friendship - Death and Life!) by Ronak Sawant

Cover Photo: "One such friendship - Death and Life!" by Ronak Sawant

एक दिन मौत आई और बोली, जिंदगी, क्या तुम मुझसे दोस्ती करोगे?

जिंदगी बोली, अगर दोस्ती निभानी आती है, तो क्यों नहीं!

मौत बोली, निभाते कैसे है?

जिंदगी बोली, दिल से।

मौत बोली, ठीक है! लेकिन, मेरे पास कोई दिल नहीं है।

जिंदगी बोली, मेरे पास दो दिल हैं। मैं केवल एक दिल के साथ काम कर सकता हूँ। मेरे लिए एक दिल ही काफी है।

मौत बोली, मुझे माफ करना क्योंकि मैंने तुमसे झूठ बोला कि मेरे पास कोई दिल नहीं है। मेरे पास दिल है। मैं बस सीखना चाहती थी की दोस्ती निभाते कैसे है। और मैंने उसे सीखा। अब मैं पूरी तरह से तैयार हूँ अपने दोस्ती के लिए।

जिंदगी बोली, जो अपने स्वार्थ के लिए झूठ ना बोले, इसे ही तो दोस्ती कहते है।

मौत बोली, मैं खुश हूँ, मैंने ऐसा दोस्त पाया है।

जिंदगी बोली, मैं खुश हूँ, मुझे ऐसा दोस्त मिला है।

वे दोनों एक दूसरे से गले मिले और बोले की - दोस्ती मुबारक हो!

यह ऐसी दोस्ती बन गई, जिसमें कोई शिकायत नहीं थी और कोई मांग नहीं थी। मौत ने जिंदगी से कभी जिंदगी नहीं मांगी और जिंदगी ने मौत से कभी मौत नहीं मांगी। यह एक ऐसी दोस्ती बन गई कि इसे नाम दिया गया, मौत और जिंदगी। यह दोस्ती अब हम सब में बसती है। बस निभाना सीखना है हमें उनसे


लेखक  रोनक सावंत

~~~

English Translation:

"One such friendship - Death and Life!"


One day Death came and said Life, will you befriend me?

Life said, If you know how to fulfil friendship, then why not!
   
Death said, How to fulfil?

Life said, From the heart.

Death said, Okay! But, I have no heart.
                    
Life said I have two hearts. I can work even with one heart. One centre is enough for me.

Death said I am sorry because I lied to you that I have no heart. I have a heart. I just wanted to learn how to fulfil a friendship. And I learned that. Now I am completely ready for our friendship.

Life said, Whoever does not lie for selfishness, it is called friendship.

Death said I am happy, I have found such a friend.

Life said I am happy I have got such a friend.

They both hugged each other and said - Happy Friendship!

It became such a friendship, in which there was no complaint and no demand. Death never demanded life from life and Life never demanded death from death. It became such a friendship that it was named, death and life. This friendship now lives in all of us. We have to learn how to fulfil it from them.



Writer  Ronak Sawant

Author - Ronak Sawant

Ronak Sawant is an Indian artist, dancer, choreographer, poet, writer, street photographer and humanitarian. He is the life explorer and a free bird that uses his art and life’s journey to inspire people and make a change in the world.


Let's get connected: Facebook | YouTube | Twitter | Instagram | Google+ | 500px

No comments:

Post a Comment


Get Inspired

To receive notifications of new posts and inspiring content by email,
simply enter your email address and subscribe to Ronak Sawant's blog.











Get in Touch

To connect and get regular updates,
simply join Ronak Sawant's social networks.